``` जज्बे को सलाम! दृष्टिहीन नेहल बनीं CA, 3 गुना स्पीड से सुन लेती हैं ऑडियो - टाइम्स ऑफ़ हिंदी
आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

जज्बे को सलाम! दृष्टिहीन नेहल बनीं CA, 3 गुना स्पीड से सुन लेती हैं ऑडियो

जुगल कलाल/डूंगरपुर. कहते हैं मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है. जी हां इन्हीं पंक्तियों को साकार कर दिखाया है डूंगरपुर रहने वाली दृष्टिबाधित नेहल जैन ने. नेहल जैन ने सीए फाइनल एग्जाम को 61 फीसदी अंकों के साथ पास किया है. ऐसा करने वाली नेहल डूंगरपुर की पहली दृष्टिहीन महिला है.

साथी बच्चे कर देते थे नोट्स बनाने में मदद

नेहल जन्मजात आखों से देख नहीं सकती है. जब स्कूल गई तो पढ़ने लिखने कई सारी दिक्कतें आई. नेहल के दोस्त बोर्ड पर लिखा हुआ उसे पढ़कर सुनाते और नेहल उन्हें नोट करती. जब पेपर लिखने का समय आता तो कोई ना कोई दोस्त उसका पेपर लिख देता. वो कहती है कि उसे कभी ऐसा महसूस नहीं हुआ कि वो अकेली है. दृष्टिहीन होने के कारण हर वक्त कोई ना कोई उसकी मदद कर देता.

टेक्नोलॉजी ने बदल दी नेहल की दुनिया

नेहल कहती हैं कि आज के दौर में टेक्नोलॉजी बहुत आगे बढ़ गई है. आज ऐसे ऐप आ चुके हैं. जिसकी मदद लेकर विशेष श्रेणी के छात्र भी हर क्षेत्र में आगे बढ़ सकते हैं. जब मैने सीए करने का सोचा तब ओसीआर (ऑपिकेटिल कैरेक्टर रिक्विजिशन) ऐप की मदद से पढ़ाई शुरू की. ओसीआर एक ऑडियो ट्रांसलेटर ऐप यहां वो लिखे हुए को पड़कर सुनाता है.

जब इस ऐप पर पढ़ना शुरू किया तब शुरुवाती दौर में काफी दिक्कतें आई. लेकिन धीरे-धीरे सब कुछ आसान होने लगा. आज हालात ये हैं कि कोई भी नोट्स वो 3x की स्पीड से सुन लेती है. इसी के साथ वो मोबाइल चलाती हैं, किसी को फोन करना या यूट्यूब चलाना हो, सब वो आसानी से कर लेती है.

मां ने लिखा सीए फाइनल पेपर

Tags: Local18, Rajasthan news, Womens Success Story

Share this article
Shareable URL
Prev Post

एक्‍सट्रीम एडवेंचर के हैं शौकीन, बरसात में पहाड़ नहीं, दिल्‍ली-एनसीआर में 5 जगहों की करें सैर

Next Post

RARKPK BO Collection Day 2: ‘रॉकी’ और ‘रानी’ ने जमाया माहौल, दूसरे दिन सिनेमाघरों पर रहा राज, शानदार रहा 2 दिनों का कलेक्शन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

राजस्‍थान के पूर्व सीएम अशोक गहलोत को हुआ कारोना, एक साथ 2 बीमारियों की चपेट में आए

हाइलाइट्स अशोक गहलोत ने बताया कि उन्‍हें कोविड-19 के साथ-साथा स्‍वाइन फ्लू भी हुआ है. अशोक गहलोत के नेतृत्‍व…

एसीपी के बजाए पुरानी सलेक्शन स्केल से कर्मचारियों की होगी बल्ले-बल्ले

हाइलाइट्स विधानसभा चुनाव से पहले फिर प्रदेश के 7 लाख से ज्यादा सरकारी कर्मचारियों को तोहफा सरकार ने 2006 में…

10वीं फेल का कमाल…स्टार्टअप से सालाना 25 लाख का टर्नओवर, इंस्टाग्राम से लेते हैं ऑनलाइन ऑर्डर

मनमोहन सेजू/बाड़मेर. पढ़ाई को अधिकांश लोग सफलता की प्रथम और आखिरी सीढ़ी मानते हैं. यही वजह है कि बच्चे 10वीं और…