आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

5 हजार रुपये लगाकर शुूरू किया काम, अब 10,750 करोड़ रुपये की कंपनी के मालिक

हाइलाइट्स

1984 में खेती के साथ किया था पोल्‍ट्री फार्म शुरू.
फिर बेचने शुरू किए पोल्‍ट्री फार्म में प्रयोग होने वाली चीजें.
कॉन्‍ट्रेक्‍ट फार्मिंग से कंपनी के कारोबार तेजी से फैला.

नई दिल्‍ली.सुगना फूड्स प्राइवेट लिमिटेड आज देश की एक बड़ी कंपनी है. हालांकि, इसकी शुरुआत एक छोटे से पॉल्ट्री फार्म के तौर पर हुई थी. इसकी स्थापना तमिलनाडु के बी सुंदरराजन और श्री जीबी सुंदरराजन दो भाई ने मिलकर की थी. उन्होंने 5000 रुपये जैसी कम रकम से इस बिजनेस की शुरुआत की थी. भाइयों की इस जोड़ी ने इस फील्‍ड में आने वाले अवसरों को पहचाना और लगातार इसके पीछे काम किया. खुद मेहनत करने के साथ सैकड़ों और लोगों को जोड़ा, जिससे उनका बिजनेस कुछ ही साल में करोड़ों का टर्नओवर करने लगा. आज तो सुगना फूड करीब 11 हजार करोड़ की कंपनी बन चुकी है.

सुगना फूड्स की शुरुआत तमिलनाडु के उडूम्‍पलेट के रहने वाले दो भाईयों बी सुंदरराजन और श्री जीबी सुंदरराजन ने की. इनके माता-पिता टीचर थे. पढ़ाई के बाद दोनों ने खेती शुरू की. साथ ही उन्‍होंने 1984 में छोटा सा पोल्‍ट्री फार्म भी शुरू किया. पोल्‍ट्री फार्म शुरू करने पर ही उन्‍हें पता चला कि पोल्‍ट्री बिजनेस में अपार संभावनाएं हैं. इसी को देखते हुए उन्‍होंने साल 1986 में पोल्‍ट्री फार्म में काम आने वाले औजार, फीड और दवाईयां बेचना शुरू कर दिया. इस तरह सुगना फूड्स की शुरुआत हुई.

शुरू करवाई कॉन्ट्रेक्ट फार्मिंग
पोल्‍ट्री फार्म में इस्‍तेमाल होने वाली चीजें बेचते हुए दोनों भाईयों को पता चला कि किसानों की आर्थिक स्थिति अच्‍छी न होने के कारण वे बेहतर तरीके से मुर्गी पालन नहीं कर पाते हैं. इसी को देखते हुए उन्‍होंने कांट्रेक्‍ट फार्मिंग की शुरुआत की. वे पोल्‍ट्री फार्म मालिकों को चिक्‍स से लेकर फीड और दवाईंया तक मुहैया कराने लगे. फार्म मालिक से ही वे मुर्गियां भी खरीदने लगे. इससे मुर्गी पालकों को तो फायदा हुआ ही, साथ ही सुगना फूड्स का कारोबार भी बढ़ा. साल 2000 आते-आते सुगना फूड्स का टर्नओवर 100 करोड़ रुपये सालाना हो गया.

अब 10,750 करोड़ का टर्नओवर
सुगना फूड्स की वेबसाइट्स के अनुसार, अब कंपनी का टर्नओवर सालाना 10,750 करोड़ रुपये हो चुका है. कंपनी का कारोबार 18 राज्‍यों में फैला है. कंपनी के पास 70 फीड मील हैं. इसके अलावा 70 से ज्‍यादा हैचरी भी कंपनी चला रही है. 40 हजार किसान कंपनी से जुड़कर पोल्‍ट्री व्‍यवसाय कर रहे हैं. यही नहीं कंपनी अब सुगना चिकन नाम से चिकन भी बेच रही है और सुगना डेलफ्रेज नाम से रिटेल स्‍टोर भी चला रही है.

टैग: बिजनेस समाचार, प्रेरणादायक कहानी, सफलतापूर्वक व्यवसायी

Share this article
Shareable URL
Prev Post

जब शाहरुख खान ढूंढ रहे थे घर, मिल गया सुपरहिट सीरियल, पैदल ही निकले थे ऑडिशन देने, फिर ऐसे बनाई पहचान

Next Post

लंबे समय तक रहा था कोविड? तो समझिए मामला गड़बड़ है, 2 साल तक दिमाग पर रहेगा असर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

एसीपी के बजाए पुरानी सलेक्शन स्केल से कर्मचारियों की होगी बल्ले-बल्ले

हाइलाइट्स विधानसभा चुनाव से पहले फिर प्रदेश के 7 लाख से ज्यादा सरकारी कर्मचारियों को तोहफा सरकार ने 2006 में…

चंबल रिवर फ्रंट की खूबसूरती को निहारना चाहते हैं निशुल्क, तो आज ही यहां करें ऑनलाइन बुकिंग

शक्ति सिंह/ कोटा. एजुकेशन सिटी कोटा में चंबल रिवर फ्रंट के उद्घाटन के बाद शहर की जनता हेरिटेज चंबल रिवर फ्रंट का…

नागौर में बड़ा सड़क हादसा, बस और कार में जबर्दस्त भिड़ंत, 7 लोगों की मौत

हाइलाइट्स नागौर के डीडवाना इलाके में हुआ हादसा हादसे में मारे गए सभी लोग कार में सवार थे हादसे की सूचना से पुलिस…