``` बेहद करामाती है ये फल, कीमत सिर्फ 10 रुपये, इसके सेवन से 5 बीमारियां हो जाएंगी दूर - टाइम्स ऑफ़ हिंदी
आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

बेहद करामाती है ये फल, कीमत सिर्फ 10 रुपये, इसके सेवन से 5 बीमारियां हो जाएंगी दूर

हाइलाइट्स

आयुर्वेद में कैथा फल का इस्तेमाल जड़ी बूटी के रूप में किया जाता है.
कैथा में आयरन, कैल्शियम, फोस्फोरस और जिंक पर्याप्‍त मात्रा में होते हैं.

खास फायदे: आयुर्वेद में कई तरह के ऐसे पेड़-पौधे हैं, जिनके जड़, तना, पत्ती, फूल और फल बेहद करामाती माने जाते हैं. इनका इस्तेमाल कई गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलाने के लिए औषधी के रूप में किया जा रहा है. ऐसी ही औषधीयों से भरपूर एक फल है, जिसको कैथा के नाम से जानते हैं. कैथा का वानस्पतिक नाम लिमोनी एसिडिसिमा (Limonia Acidissima) है. बेल पत्थर की तरह दिखने वाला यह फल हाथियों को बेहद पसंद होता है. इसलिए दुनिया के कई हिस्सों में इसे हाथी सेब भी कहा जाता है.

कैथा फल को बेशक हर किसी ने ना खाया हो, लेकिन नाम जरूर सुना होगा. आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल जड़ी बूटी के रूप में किया जाता है. बता दें कि, इस फल में आयरन, कैल्शियम, फोस्फोरस और जिंक पर्याप्‍त मात्रा में पाए जाते हैं. इसके अलावा इसमें विटामिन बी1 और बी2 भी पाया जाता है. यह फल बाजार में करीब 10 रुपये में मिल जाता है. आइए बलरामपुर चिकत्सालय लखनऊ के आयुर्वेदाचार्य डॉ. जितेंद्र शर्मा से जानते हैं कैथा खाने के फायदे.

कैथा के 5 चमत्कारी स्वास्थ लाभ

1. डायबिटीज में रामबाण: कैथा का सेवन डायबिटीज के लिए अधिक असरदार माना जाता है. बता दें कि, कैथे के पेड़ से निकलने वाले फेरोनिया गूंदा मधुमेह रोगियों के लिए रामबाण इलाज है. यह फल रक्त प्रवाह में चीनी के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है. इसके नियमित सेवन से रक्त में ग्लूकोज का स्तर कम होता है. इसके अलावा ये इंसुलिन सेल्स को भी बढ़ाने में मदद करता है, ताकि वो तेजी से काम करें और शुगर मेटाबोलिज्म को आसान बनाएं.

2. हाई कोलेस्ट्रॉल करे कंट्रोल: कैथे का सेवन हाई कोलेस्ट्रॉल के मरीजों के लिए फायदेमंद माना जाता है. बता दें कि, कैथा में पाया जाने रफेज और फाइबर नसों में जमा कोलेस्ट्रॉल को सोखता है और इसे शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है. इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन सी ब्लड वेसेल्स को चौड़ा करता है और खून की रफ्तार को बेहतर बनाने का काम करता है. ऐसे में हाई कोलेस्ट्रॉल के मरीजों को कैथा का सेवन जरूर करना चाहिए.

3. बवासीर से करे बचाव: कैथा का सेवन बवासीर की तकलीफ को दूर करने में असरदार माना जाता है. दरअसल, कैथा का फाइबर और रफेज मेटाबोलिक रेट बढ़ाने के साथ बॉवेल मूवमेंट में सुधार करने का काम करता है. इसके अलावा ये मूत्र मार्ग की सूजन को भी कम करता है. हालांकि बीमारी के हिसाब से इसका नियमित सेवन जरूरी है. ताकि समय रहते परेशानियों से निजात मिल सके.

4. अनिद्रा से दिलाए छुटकारा: कैथा की जड़ के चूर्ण का उपयोग अनिद्रा से छुटकारा पाने और नींद की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए किया जाता है. जड़ के चूर्ण को पानी में मिलाकर गाढ़ा घोल बना लें और अच्छी नींद लेने के लिए इस घोल को अपने सिर के कनपटी और माथे पर लगाएं. इससे अनिद्रा से छुटकारा मिलेगा. इसके अलावा लिमोनिया एसिडिसिमा की पत्तियों का उपयोग बच्चों में पाचन संबंधी समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है.

Tags: स्वास्थ्य, स्वास्थ्य समाचार, जीवन शैली

इस छोटे से फल में न केवल स्वाद है, बल्कि यह स्वस्थ लाभों का भंडार भी है। विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए कैथा का इस्तेमाल विशिष्ट फायदेमंद है। प्रतिदिन कैथा का सेवन करके हम अपनी सेहत को सुरक्षित और स्वस्थ रख सकते हैं।

Share this article
Shareable URL
Prev Post

जान जोखिम में डालकर रेलवे लाइन के बीच से होकर गुजर रहे बच्चे, देखें Video

Next Post

प्रोमेट ने भारत में 25 घंटे प्लेबैक टाइम, ऑडियो TWS प्रोपोड्स लॉन्च किए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

18 की उम्र में 10 साल जैसा दिखाता है आपका बच्चा? इस गंभीर बीमारी का हो सकता है शिकार, जानें उपचार

अभिषेक माथुर/हापुड़ : अगर आपका बच्चा 18 साल की उम्र में देखने में 10 या 12 साल के बच्चों की तरह दिखता है, तो…

Smog & Fog: धुएं से हार्ट अटैक का खतरा! डॉक्टर से जानें स्मॉग-फॉग में अंतर और कैसे करता है शरीर पर असर

विशाल झा/गाजियाबाद: सर्दी और प्रदूषण की दोहरी मार से एनसीआर वासी जूझ रहे हैं. गाजियाबाद के अस्पतालों में पिछले 1…

अमृत है ये जड़ी-बूटी… पुराने बुखार को करे गायब, सर्दियों में सेहत का रखे ख्याल! जानें इस्तेमाल का तरीका

विशाल भटनागर/मेरठ: आयुर्वेदिक परंपरा में ऐसी जड़ी-बूटियां का उल्लेख है, जो मनुष्य के सेहत को बेहद लाभकारी होते…