``` BPSC की 63वीं परीक्षा का फाइनल रिजल्ट घोषित, श्रेयांश तिवारी बने टॉपर - टाइम्स ऑफ़ हिंदी
आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

BPSC की 63वीं परीक्षा का फाइनल रिजल्ट घोषित, श्रेयांश तिवारी बने टॉपर

63वीं बिहार सिविल सेवा परीक्षा: बीपीएससी की 63वीं परीक्षा के नतीजे जारी कर दिए गए हैं। इस परीक्षा में टॉपर बनने का श्रेय स्वयं श्रेयांश तिवारी को प्राप्त हुआ है, जबकि अनुराग दूसरे नंबर, मिराज तीसरे नंबर और सुनिधि चौथे नंबर पर हैं। महिला टॉपर बनने वाली सुनिधि है। 63वीं बीपीएससी के फाइनल रिजल्ट में कुल 355 अभ्यर्थी सफल हुए हैं।

श्रेयांश तिवारी जो पहला स्थान प्राप्त करने वाले हैं, उन्हें बिहार प्रशासनिक सेवा में चुना गया है। दूसरे स्थान प्राप्त करने वाले अनुराग कुमार का चयन बिहार पुलिस सेवा के लिए किया गया है। महिला वर्ग में टॉप करने वाली सुनिधि ने चौथा रैंक प्राप्त किया है और उन्हें बिहार प्रशासनिक सेवा के लिए चुना गया है। इसके अलावा, पांचवें रैंक प्राप्त करने वाली श्रेया सलोनी को लेबर एंफोर्समेंट ऑफिसर की जिम्मेदारी मिली है। लड़कियों में तीसरा स्थान प्राप्त करने वाली अर्चना कुमारी ने छठे रैंक प्राप्त किया है और उन्हें भी लेबर एंफोर्समेंट ऑफिसर की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

टॉपर्स की बात करें तो टॉप फाइव में दो महिलाएं भी शामिल हैं। इस परीक्षा में सामान्य वर्ग के कटऑफ मार्क्स 588 रहे हैं, अत्यंत पिछड़ा वर्ग के कटऑफ मार्क्स 564, अनु जाति के कटऑफ मार्क्स 575 और अनु जनजाति के कटऑफ मार्क्स 553 हैं।

मुख्य परीक्षा में 924 उम्मीदवार सफल हुए थे, जिनमें से 824 उम्मीदवार इंटरव्यू में उपस्थित हुए थे। इंटरव्यू के बाद ही बीपीएससी ने फाइनल रिजल्ट घोषित किया है। इसके लिए बीपीएससी आयोग की वेबसाइट पर जाना होगा, जहां अभ्यर्थियों के रिजल्ट क्रमांक, मार्क्स और नाम के साथ जारी किया गया है।

ये भी पढ़ें:
Inspiring Story: ईंट भट्टे से मुक्त हुआ था बंधुआ मजदूर,अब DU से कर रहा है B.Sc
BPSC Main Results 2019: 63वें मेन एग्जाम का रिजल्ट जारी, इंटरव्‍यू के लिये 924 हुए सेलेक्‍ट

Tags: बिहार समाचार, बीपीएससी परीक्षा, सफलता की कहानी

सोचने का दृष्टिकोण: यह परीक्षा में महिला अभ्यर्थियों की महत्वपूर्ण भूमिका दिखाई दी है और इससे एक सकारात्मक संकेत मिलता है कि बिहार में महिलाओं को शिक्षा और करियर के क्षेत्र में सुविधाएं मिल रही हैं। यह परीक्षा कठिन और प्रतिष्ठात्मक होने के बावजूद, इसने बीपीएससी परीक्षा और उसके परिणामों की मान्यता को और बढ़ावा दिया है। यह प्रेरक है कि हर कोई अपने लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए मेहनत और समर्पण करें।

Share this article
Shareable URL
Prev Post

WC 2023: भारत पहुंचकर पाक टीम के कप्‍तान बाबर व अन्‍य प्‍लेयर्स बोले- थैंक्‍यू

Next Post

El Molo Tribe: मगरमच्छ-हिप्पो को खाने की आदत, बस 45 साल रहते हैं जिंदा, कहां रहते हैं ऐसे लोग?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

मिशन एडमिशन: माउंट कार्मेल स्कूल में 10 और 11 जनवरी को मिलेगा फॉर्म, 1 फरवरी को आएगा संत माइकेल का रिजल्ट

पटना: राजधानी के स्कूल में प्राइमरी लेवल के मिशन एडमिशन (Mission Admission) की शुरुआत हो गई है और नए सत्र में…

पुलिस सब इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा परिणाम घोषित, 1926 अभ्यर्थी देंगे Sub Inspector के लिए इंटरव्यू

अजमेर. राजस्थान लोक सेवा आयोग की ओर से उप निरीक्षक / प्लाटून कमाण्डर (sub Inspector / Platoon Commander) संयुक्त…

कांस्टेबल भर्ती परीक्षा: CM गहलोत ने दिया बड़ा तोहफा, अभ्यर्थियों मिलेगी को आयु सीमा में एक वर्ष की छूट

जयपुर. सीएम अशोक गहलोत ने पांच हजार पदों के लिए की जाने वाली कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में शामिल होने वाले…