``` इजरायल पर हमले में हमास के पीछे दूसरी ताकतों का भी हाथ! मोसाद, शिन बेट, आयरन डोम सब एक साथ कैसे हुए फेल? - टाइम्स ऑफ़ हिंदी
आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

इजरायल पर हमले में हमास के पीछे दूसरी ताकतों का भी हाथ! मोसाद, शिन बेट, आयरन डोम सब एक साथ कैसे हुए फेल?

तेल अवीव: शीर्ष खुफिया सूत्रों ने विश्लेषण किया है कि इजराइल-फिलिस्तीन युद्ध, जिसने लगभग 48 घंटों में लगभग 500 लोगों की जान ले ली है, एक सुविचारित और समन्वित हमला है जिस पर लंबे समय से काम चल रहा था. उनका कहना है कि 7 अक्टूबर को ग़ज़ा पट्टी से हुए हमले में कई खिलाड़ी शामिल हैं. सूत्रों का कहना है, ‘इस मामले में कुछ बहुत ही संदिग्ध है, ऐसा कैसे हो सकता है कि इजराइल के सभी सैन्य बलों की सभी चेतावनी प्रणालियां काम नहीं करें.’

यह इजराइली खुफिया विभाग की ‘भारी विफलता’ पर ध्यान केंद्रित करता है जो जमीन, हवा और समुद्र से होने वाले अभूतपूर्व हमले को नहीं देख सका. दर्जनों फिलिस्तीनी बंदूकधारियों ने इजराइल और ग़ज़ा पट्टी के बीच भारी सुरक्षा वाली सीमा को पार कर लिया, जबकि ग़ज़ा से इजराइल में हजारों रॉकेट दागे गए. लुकआउट, राडार सिस्टम, कैमरे, चेतावनी तंत्र, कुछ भी काम नहीं आया? शिन बेट (इजराइली सुरक्षा एजेंसी), इजराइल रक्षा बल (IDF) और मोसाद, जो दुनिया भर से खुफिया जानकारी इकट्ठा करने पर पर्याप्त पैसा खर्च करते हैं, एक के बाद एक विफल रहे.

हमास के लड़कों को अत्याधुनिक हथियारों के साथ प्रशिक्षित किया गया था?
प्रारंभिक मूल्यांकन के अनुसार, हमास (गाजा पट्टी को नियंत्रित करने वाला उग्रवादी समूह), जिसने ग़ज़ा पट्टी में इजराइल की सीमा पर सभी तारों/बाड़ को काट दिया, घुसपैठ के लिए पानी और ग्लाइडर का इस्तेमाल किया, को संभवतः युद्ध के लिए हाल ही में अफ्रीका या यूरोप में अत्याधुनिक हथियारों के साथ प्रशिक्षित किया गया था. इजराइल पर एक परिष्कृत हमले को अंजाम देने के लिए सभी सुरक्षा उपकरण डिसेबल्ड कर दिए गए थे.

यहां जांच के लिए चीन की भूमिका संभवतः महत्वपूर्ण है. प्रारंभिक रिपोर्टों से पता चलता है कि सभी सुरक्षा चेतावनी प्रणालियों को अक्षम करने के लिए ‘चीनी ट्रोजन’ का उपयोग किया गया था. हाल ही में, कई साइबर हमलों से पता चलता है कि चीन बड़े पैमाने पर इजराइल विरोधी गठबंधन में शामिल हो गया है. इजराइल पर कल सुबह हमास ने अचानक जमीन, हवा, पानी से तीनतरफा हमला कर दिया.

इजराइल में 5000 रॉकेट कैसे घुसे? आखिर आयरन डोम क्या कर रहा था?
इजराइल-फिलिस्तीन युद्ध में देखने लायक एक और महत्वपूर्ण सवाल यह है कि बिना किसी खुफिया-मानव या संकेत के ग़ज़ा से इजराइल में 5,000 रॉकेट कैसे दागे गए. जबकि पुलिस को प्रतिक्रिया देने में घंटों लग गए और हमले के दो घंटे बाद तक हेलीकॉप्टर भी तैनात नहीं किए गए थे. इजराइल की आयरन डोम, जो हर मौसम में काम करने वाली वायु रक्षा प्रणाली है, उसने कैसे काम नहीं किया? जाहिर तौर पर, आयरन डोम को चीनी ट्रोजन द्वारा क्षतिग्रस्त कर दिया गया था.

हम हमास के सभी ठिकानों को मलबे में तब्दील कर देंगे: बेंजामिन नेतन्याहू
वर्ष 1973 के योम किप्पुर युद्ध की शुरुआत की 50वीं वर्षगांठ के बाद, इजराइली सेना को सीरिया और मिस्र के टैंकों द्वारा रोक दिया गया था. इस बार भी इजराइली सेना एक और हमले से हैरान नजर आ रही है. बताया जा रहा है कि हमास के हमले में इजराइल के 300 नागरिकों की मौत हुई और 1000 से ज्यादा घायल हुए हैं. प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि इजराइल के खिलाफ दोबारा इस तरह का दुस्साहस न हो, इसलिए यह युद्ध लंबा चलेगा. हम हमास के सभी ठिकानों को मलबे में तब्दील कर देंगे.

Tags: Hamas attack on Israel, Israel, Israel air strikes, Israel gaza attack today

Share this article
Shareable URL
Prev Post

BAN vs AFG मैच के दौरान फैंस ने नवीन उल हक को चिढ़ाया, लगाए ‘कोहली-कोहली’ के नारे, वीडियो वायरल

Next Post

Asian Games:भारतीय स्क्वैश टीम का शानदार प्रदर्शन, कोच सुरभि का भव्य स्वागत, पढ़ें क्या कहा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

प्रिगोझिन की मौत से फिर चर्चा में रूस, पहले भी कई हो चुकी है ऐसी घटनाएं जानें

नई दिल्‍ली. रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) के आलोचकों में से कई कीरहस्‍यमय तरीकों से मौत हो…

40 साल का हुआ ये खूंखार तानाशाह, नहीं मनाया कोई जश्न, गरीबी से जूझ रहा है देश

सियोल. उत्तर कोरिया के तानाशाह नोता जहां अपने पिता और दादा के जन्मदिवस पर जश्न का ओयाजन करवाते हैं, वहीं 40 साल…

वेटर की 1 गलती और अब महिला को मिलेंगे 24 करोड़ रुपये, जानें क्या है पूरा माजरा

हाइलाइट्स महिला कॉफी गिरने के चलते काफी बुरी तरह से जल गई थी। महिला ने आउटलेट के खिलाफ मुकदमा दायर किया था।…