``` खुशखबरी! कृषि व ग्रामीण बैंकों में अब नहीं दिखेंगे खाता-बही, कम्प्यूटराइज्ड होंगे ऑफिस, सरकार ने बनाया ये प्लान - टाइम्स ऑफ़ हिंदी
आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

खुशखबरी! कृषि व ग्रामीण बैंकों में अब नहीं दिखेंगे खाता-बही, कम्प्यूटराइज्ड होंगे ऑफिस, सरकार ने बनाया ये प्लान

हाइलाइट्स

सरकार 1,851 कार्यालयों का 225.09 करोड़ रुपये से कम्प्यूटरीकरण करेगी.
इससे इन कार्यालयों के कामकाज में पारदर्शिता और एकरूपता भी आएगी.
सरकार सभी प्राथमिक कृषि ऋण समितियों को कम्प्यूटरीकृत कर रही है.

नई दिल्ली. पिछले कुछ वर्षों में बैंकिंग सुविधाओं की पहुंच तेजी से बढ़ी है. अब हर व्यक्ति मोबाइल के जरिए लेन-देन कर रहा है. डिजिटल बैंकिंग के जरिए आम आदमी का वित्तीय जीवन काफी आसान हो गया है. हालांकि, इस दौर में भी कुछ बैंक ऐसे हैं जो पूरी तरह से कम्यूटराइज्ड नहीं हैं. इसी कड़ी में भारत सरकार देश में स्थित राज्य सहकारी रजिस्ट्रार और कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंकों (ARDB) के 1,851 कार्यालयों का 225.09 करोड़ रुपये से कम्प्यूटरीकरण करेगी.

सरकार ने रविवार को यह घोषणा की. सरकार देश में सभी प्राथमिक कृषि ऋण समितियों (पीएसीएस) को कम्प्यूटरीकृत कर रही है. सहकारिता मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “देश के सभी पीएसीएस की कम्प्यूटरीकरण योजना की तर्ज पर एक राष्ट्रीय एकीकृत सॉफ्टवेयर के माध्यम से 13 राज्यों के एआरडीबी की 1,851 इकाइयों के कम्प्यूटरीकरण के लिए एक योजना को मंजूरी दी गई है.”

ये भी पढ़ें- उम्र 70 से ज्यादा, हर घंटे की कमाई 70 करोड़! ऑफिस में बैठे-बैठे होती इनकम, जानिए ऐसा क्या काम करता ये शख्स

225 करोड़ रुपये खर्च करेगी सरकार
इसमें कहा गया कि सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सहकारी समितियों के रजिस्ट्रार के कार्यालयों को कम्प्यूटरीकृत करने का भी निर्णय लिया है. बयान के अनुसार, योजना के सफल कार्यान्वयन के लिए एक केंद्रीय परियोजना निगरानी इकाई (पीएमयू) की स्थापना की जाएगी. इस योजना पर कुल अनुमानित व्यय 225.09 करोड़ रुपये होगा.

मंत्रालय ने कहा कि इस योजना के कार्यान्वयन से न केवल लोग राज्यों के सहकारी विभागों और एआरडीबी के कार्यालयों द्वारा दी जाने वाली सेवाओं का तेजी से लाभ ले सकेंगे, बल्कि इन कार्यालयों के कामकाज में पारदर्शिता और एकरूपता भी आएगी.

राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक देश में कृषि और ग्रामीण विकास के लिए शीर्ष बैंक है. ये बैंक किसानों के लिए मार्गदर्शक के तौर पर कार्य करते हैं. हालांकि, इन बैंकों का अब भी पूरी तरह से डिजिटलीकरण नहीं हुआ है. इस वजह से अन्य सरकारी व प्राइवेट बैंकों की तरह यहां कम्प्यूटराइज्ड सुविधाएं नहीं मिल पाती हैं.

परिप्रेक्ष्य (Perspective):

यदि सरकारी बैंकों को कम्प्यूटरीकरण से लाभ होगा तो लोगों को और बेहतर सेवाएं मिलने की उम्मीद है. डिजिटलीकरण के माध्यम से स्थानीय बैंकिंग सुविधाएं बेहतर होंगी और इससे कृषि और ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को भी अधिक लाभ होगा. यह सरकार की ओर से एक अच्छा कदम है जो सामरिक क्षेत्र में तकनीकी प्रगति को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण है.

Share this article
Shareable URL
Prev Post

आधे दाम पर मिल रहे हैं ये अलमारी जैसे खुलने वाले लग्जरी फ्रिज, खरीदने के लिए लगी लाइन

Next Post

1977 में जब नसीरुद्दीन शाह के साथ हुआ विश्वासघात, एक्टर दोस्त ने पीछे से किया हमला, हालत हो गई थी खराब फिर…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

SBI दे रहा है सस्ता होम लोन! ऑफर का फायदा उठाने के लिए बचे हैं बस 4 दिन, ब्याज दरों पर मिलेगी इतनी छूट

नई दिल्ली. अगर आप भी घर खरीदने की प्लानिंग कर रहे हैं तो भारतीय स्टेट बैंक (SBI) से सस्ती दरों पर होम लोन लेने…

नौकरी से आ गए हैं तंग तो शुरू कर दें यह कारोबार, हर महीने होगी 5-10 लाख रुपये की कमाई, जानिए कैसे?

नई दिल्ली. क्या आप भी अपनी बोरिंग नौकरी से तंग आ चुके हैं? और कोई ऐसा बिजनेस (अपना व्यापार शुरू करना) करना चाहते…