``` सोना बन चुका इस अनाज की रोटी में है हजारों गुण, पर बनाने में क्यों जाती है टूट, चपाती जैसी बनाने के लिए करें ये काम - टाइम्स ऑफ़ हिंदी
आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

सोना बन चुका इस अनाज की रोटी में है हजारों गुण, पर बनाने में क्यों जाती है टूट, चपाती जैसी बनाने के लिए करें ये काम

हाइलाइट्स

ज्वार में फ्री रेडिकल्स को खत्म कर ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने वाले एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं।
ज्वार के आटे को बहुत जोर से गूंथने की जरूरत नहीं है।

ज्वार रोटी बनाने के टिप्स और फायदे: ज्वार अनाज की तरह गुणकारी हो चुका है। इसमें प्रोटीन, ऊर्जा, फैट, फाइबर और विटामिन तत्व पाए जाते हैं। इसका सेवन हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। ज्वार में फ्लेवेनोएड, फेनोलिक एसिड और टेनिंस नामक एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करते हैं। इसके अलावा ज्वार में मैग्नीशियम, कैल्शियम, विटामिन, कॉपर, आयरन, पोटैशियम, सेलेनियम और जिंक भी पाए जाते हैं।

ज्वार के फायदे

ज्वार में फ्लेवेनोएड, फेनोलिक एसिड और टेनिंस नामक एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करते हैं। इसके साथ ही ज्वार में मैग्नीशियम और कैल्शियम भी होता है जो हड्डियों की मजबूती के लिए जरूरी है। ज्वार का सेवन हार्ट हेल्थ के लिए बहुत फायदेमंद है और यह ब्लड शुगर को भी कम करता है। ज्वार एंटी-इंफ्लामेटरी होता है जो कोलेस्ट्रॉल और गठिया के दर्द को कम करता है। यह पाचन तंत्र मजबूत करने में मदद करता है और कब्ज से राहत दिलाता है। ज्वार वजन कम करने में भी मदद करता है और कई बीमारियों में भी लाभदायक है।

ज्वार की रोटी को टूटने से बचाने के उपाय

ज्वार की रोटी बनाने में आसानी होनी चाहिए। आटे को अच्छे से गूंथकर शेप दें। रोटी टूटने से बचाने के लिए सही मात्रा में पानी का इस्तेमाल करें और धीरे-धीरे गूंथें। अगर यह तरीके से नहीं बन रही है तो शीट का इस्तेमाल करें। धीरे-धीरे बेलें और तवा पर पकाएं। यह तरीका रोटी की मजबूती को बनाए रखेगा। पानी को हल्का गर्म करके इसमें मिलाएं और फिर धीरे-धीरे गूंथें।

ज्वार और गेहूं

ज्वार के आटे को गेहूं के आटे की तरह जोर से गूंथने की जरूरत नहीं है। इसे अच्छे से गूंथने के बाद थोड़ा बटर मिला दें और धीरे-धीरे बेलें। इस तरह रोटियां टूटने से बचेंगी। यदि आटे को गूंथने में दिक्कत होती है तो शीट का इस्तेमाल करें। धीरे-धीरे बेलें और तवे पर पकाएं।

इसे भी पढ़ें-क्या विटामिन डी की कमी से होता है कैंसर? वैज्ञानिक सुलझा रहे हैं गुत्थी, पर इस घातक बीमारी से है खास रिश्ता

इसे भी पढ़ें-बेकार हो रहे हैं परेशान, किचन में ही मौजूद है फैट बर्नर चीज, मजे-मेज में इस तरह कीजिए तूफानी, झटपट गायब होगी पेट की चर्बी

Share this article
Shareable URL
Prev Post

ICC World Cup: लखनऊ में यहां मिल रहा ऑफलाइन भारत बनाम इंग्लैंड मैच का टिकट, बस इतनी है कीमत

Next Post

आधे दाम पर मिल रहे हैं ये अलमारी जैसे खुलने वाले लग्जरी फ्रिज, खरीदने के लिए लगी लाइन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

अब मोटापे को लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं, यहां होगी यह समस्या दूर, खर्चा भी काफी कम

सच्चिदानंद/ पटना. यदि आप भी अपने मोटापे से परेशान हैं और आपके वजन का बढ़ावा आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा रहा…

काली हल्दी नहीं भारत का केसर, दुर्लभ किस्म की महंगी औषधि, मिल जाए तो करेगी 5 जानलेवा बीमारियों का खात्मा

हाइलाइट्स काली हल्दी और एलोवेरा का इस्तेमाल ओरल कैंसर की बीमारी को दूर करता है. काली हल्दी का लेप साप काटने पर…

अस्थमा-ब्लड प्रेशर और शुगर के मरीजों के लिए रामबाण इलाज ‘प्राणायाम’, और भी हैं फायदे

ईशा बिरोरिया/ ऋषिकेश. प्राणायाम (Pranayama Advantages) संस्कृत का शब्द है, जो दो शब्दों के मेल से बना है. प्राण…