``` Israel-Hamas War : लंबा खिंचा युद्ध तो रॉकेट बन जाएंगे इन कंपनियों के शेयर! क्‍यों आएगी तेजी? ब्रोकरेज ने खोला राज - टाइम्स ऑफ़ हिंदी
आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

Israel-Hamas War : लंबा खिंचा युद्ध तो रॉकेट बन जाएंगे इन कंपनियों के शेयर! क्‍यों आएगी तेजी? ब्रोकरेज ने खोला राज

हाइलाइट्स

इज़रायल पर हमास के अचानक हमले से पूरी दुनिया में ब्रोमीन की कीमतें बढ़ गई हैं.
ब्रोमीन का इस्तेमाल दवाएं, खासकर मिर्गी और एंजाइटी की दवा बनाने में होता है.
इज़रायल-हमास युद्ध के बाद से ही केमिकल स्टॉक्स में तेज दर्ज की गई है.

Israel-Hamas Yuddh: इज़रायल और हमास के बीच छिड़ी जंग अगर लंबा खिंचती है तो केमिकल उत्पादन करने वाली कुछ कंपनियों के शेयरों में तेज उछाल आ सकता है. पिछले 2 दिनों से केमिकल कंपनियों के शेयर (Chemical Stocks) तेजी से भाग भी रहे हैं. कुछ केमिकल स्टॉक्स में तेजी का कारण ब्रोमीन (Bromine) नामक एक केमिकल की सप्लाई इजरायल से बाधित होने की आशंका है. इज़रायल ब्रोमीन का मुख्य निर्यातक है. विश्व में 30 फीसदी ब्रोमीन इज़रायल से ही आता है. ब्रोमीन पीरियाडिक टेबल में यह केमिकल 35वें नंबर पर आता है और इसका सिंबल ‘Br’ होता है.

इज़रायल पर हमास के अचानक हमले से पूरी दुनिया में ब्रोमीन की कीमतें बढ़ गई हैं. इसका असर केमिकल सेक्टर की कंपनियों को मिल रहा है. ब्रोमीन केमिकल का नेगेटिव चार्ज रूप होता है, यानी BR-. इसे ब्रोमाइड भी कहते हैं. इसका इस्तेमाल कई तरह की दवाएं बनाने में होता है. खासतौर से मिर्गी के दौरे या एंजाइटी के इलाज के लिए बनने वाली दवाओं में इसका ज्यादा इस्तेमाल होता है.

भारतीय मूल की अमेरिकी कंपनी Albemarle Inc. के सीईओ Kent Masters ने ब्रोमीन तारीख़ात से ऐलन यहाँ भी आई है. उन्‍होंने कहा था कि “इज़रायल वो यहाँ के सबसे छोटी मात्रा में ब्रोमीन का निर्यातक रहता था और उनकी कंपनी देश के कुछ छोटे रिज़ॉर्टस पर ब्रोमीन उत्पादन करती है.” लेकिन अब यह ब्रोमीन का निर्यातक होने का दर्जा खो चुका है.

ब्रोकरेज फर्मों के अनुसार

केमिकल सेक्टर के मौजूदा हालात को देखते हुए ब्रोकरेज फर्म जेएम फाइनेंशियल (JM Financial) ने SRF, दीपक नाइट्राइट और आर्कियन केमिकल के शेयरों को खरीदने की सलाह दी है. जेएफ फाइनेंशियल ने SRF के शेयर का टारगेट प्राइस 2,230 रुपये, दीपक नाइट्राइट का 2,066 रुपये और आर्कियन केमिकल का 628 रुपये तय किया है. इसके अलावा ब्रोकरेज फर्म ने UPL, पीयू इंडस्ट्रीज, क्लीन साइंस, नवीन फ्लोरीन और एथर इंडस्ट्रीज के शेयरों पर भी अपना ‘बाय’ रेटिंग बरकरार रखी है.

जेएम फाइनेंशिनेंयल ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि इज़रायल में जंग के हालात पैदा से होने से ब्रोमीन के उत्पादन, उसकी बिक्री और विदेशी निर्यात पर चिंताएं खड़ी हो गई हैं. जंग के चलते अगर ब्रोमीन के निर्यात में कमी आई तो इसकी कीमतें तेजी से बढ़ सकती हैं. वर्तमान में ब्रोमीन की कीमत प्रति किलो लगभग 290 रुपये हैं.

(अस्वीकरण: यहाँ बताए गए स्टॉक्स ब्रोकरेज हाउस की सलाह पर आधारित हैं. यदि आप इनमें से किसी में भी पैसा लगाना चाहते हैं तो पहले सर्टिफाइड इन्वेस्टमेंट एडवाइजर से परामर्श करें. आपके किसी भी प्रकार के लाभ या हानि के लिए टाइम्स ऑफ़ हिंदी जिम्मेदार नहीं होगा.)

Share this article
Shareable URL
Prev Post

Threads में आ गया X का बड़ा फीचर, यूजर्स फ्री में कर सकते हैं पोस्ट को एडिट

Next Post

ये है दिल्ली का सबसे मशहूर बैंड, कियारा आडवाणी, कैटरीना कैफ जैसी हस्थियों की शादी में कर चुका परफॉर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

अगर आप शुरू करना चाहते हैं अपना खुद का बिजनेस तो ये है बेस्ट ऑप्शन, सरकार भी कर रही मदद

नई दिल्ली. अगर आप भी कोई नया बिज़नेस शुरू (New Enterprise Concept) करने का प्लान कर रहे हैं तो हम आपको बता रहे…

घर बैठे फ्रेंचाइजी लेकर फ्री में शुरू करें अपना कारोबार, हर महीने होगी लाखों में कमाई, जानें कैसे?

नई दिल्ली. आज हम आपको एक ऐसे कारोबार (बिज़नस आईडिया) के बारे में बता रहे हैं, जहां आप बिना कुछ पैसे लगाएं शुरू…

एक बार का निवेश, पैसा डालते ही मिलने लगता है वापस, क्या है LIC की ये स्कीम

हाइलाइट्स एलआईसी देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी है. कंपनी के पास पेंशन के लिए कई योजनाए हैं. सरल पेंशन योजना…