``` अब बस बोलना होगा 'एक शब्‍द' और पता लग जाएगा क‍ि आपको ये खतरनाक बीमारी है या नहीं, जानें - टाइम्स ऑफ़ हिंदी
आपका स्वागत है! टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर रंग-बिरंगी ख़बरों की दुनिया में!

अब बस बोलना होगा ‘एक शब्‍द’ और पता लग जाएगा क‍ि आपको ये खतरनाक बीमारी है या नहीं, जानें

यह पता लगाना कि कोई व्यक्ति मधुमेह से पीड़ित है या नहीं, उसे अपने स्मार्टफोन में कुछ वाक्य बोलने जितना आसान हो सकता है, एक अभूतपूर्व अध्ययन में मधुमेह का पता लगाने में एक आवाज प्रौद्योगिकी को कृत्रिम बुद्धिमत्ता के साथ जोड़ा गया है. अमेरिका में क्लिक लैब्स के वैज्ञानिकों ने एक एआई मॉडल बनाने के लिए उम्र, लिंग, ऊंचाई और वजन सहित बुनियादी स्वास्थ्य डेटा के साथ-साथ लोगों की आवाज के छह से 10 सेकंड का उपयोग किया, जो यह पता लगा सकता है कि उस व्यक्ति को टाइप 2 मधुमेह है या नहीं.

मेयो क्लिनिक प्रोसीडिंग्स: डिजिटल हेल्थ जर्नल में प्रकाशित मॉडल में महिलाओं के लिए 89 प्रतिशत और पुरुषों के लिए 86 प्रतिशत सटीकता है. अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने 267 लोगों (गैर या टाइप 2 मधुमेह के रूप में निदान) को दो सप्ताह के लिए प्रतिदिन छह बार अपने स्मार्टफोन में एक वाक्यांश रिकॉर्ड करने के लिए कहा. 18,000 से अधिक रिकॉर्डिंग से, वैज्ञानिकों ने गैर-मधुमेह और टाइप 2 मधुमेह वाले व्यक्तियों के बीच अंतर के लिए 14 ध्वनिक विशेषताओं का विश्लेषण किया.

पेपर के पहले लेखक और क्लिक लैब्स के शोध वैज्ञानिक जेसी कॉफ़मैन ने कहा क‍ि हमारा शोध टाइप 2 मधुमेह वाले और बिना टाइप 2 मधुमेह वाले व्यक्तियों के बीच महत्वपूर्ण स्वर भिन्नताओं को उजागर करता है और मधुमेह के लिए चिकित्सा समुदाय की जांच के तरीके को बदल सकता है.

मधुमेह का पता लगाने के मौजूदा तरीकों में बहुत अधिक समय, यात्रा और खर्च की आवश्यकता होती है. वॉयस टेक्नोलॉजी में इन बाधाओं को पूरी तरह से दूर करने की क्षमता है. सिग्नल प्रोसेसिंग का उपयोग करके, वैज्ञानिक टाइप 2 मधुमेह के कारण आवाज में बदलाव का पता लगाने में सक्षम हुए. कॉफ़मैन ने कहा, आश्चर्यजनक रूप से, पुरुषों और महिलाओं में वे स्वर परिवर्तन अलग-अलग तरीकों से प्रकट हुए.

अंतर्राष्ट्रीय मधुमेह महासंघ के अनुसार, दुनिया भर में मधुमेह से पीड़ित लगभग दो में से एक, या 240 मिलियन वयस्क इस बात से अनजान हैं कि उन्हें यह स्थिति है और मधुमेह के लगभग 90 प्रतिशत मामले टाइप 2 मधुमेह के हैं. प्रीडायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले नैदानिक परीक्षणों में ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन (ए1सी) के साथ-साथ फास्टिंग ब्लड ग्लूकोज (एफबीजी) परीक्षण और ओजीटीटी शामिल हैं.

क्लिक लैब्स के उपाध्यक्ष और इस अध्ययन के प्रमुख अन्वेषक, यान फोसैट ने कहा कि नया गैर-दखल देने वाला और सुलभ दृष्टिकोण बड़ी संख्या में लोगों की जांच करने की क्षमता प्रदान करता है और टाइप 2 मधुमेह वाले अज्ञात लोगों के बड़े प्रतिशत की पहचान करने में मदद करता है. फॉसैट ने कहा क‍ि हमारा शोध टाइप 2 मधुमेह और अन्य स्वास्थ्य स्थितियों की पहचान करने में आवाज प्रौद्योगिकी की क्षमता को रेखांकित करता है. वॉयस तकनीक एक सुलभ और किफायती डिजिटल स्क्रीनिंग टूल के रूप में स्वास्थ्य देखभाल प्रथाओं में क्रांति ला सकती है.

टाइम्स ऑफ़ हिंदी पर अपनी पहली प्रकाशित खबर में हमने देखा है कि अब एक साधारण वाक्य बोलकर भी यह पता लगाया जा सकता है कि कोई व्यक्ति मधुमेह से पीड़ित है या नहीं। यह अध्ययन वाइस तकनीक का उपयोग करके मधुमेह और अन्य स्वास्थ्य स्थितियों की पहचान करने की नई संभावना देखाता है। यह वाणिज्यिक एप्लिकेशन से अधिक मात्रा में लोगों की जांच करने की क्षमता रख सकता है और टाइप 2 मधुमेह होने वाले अज्ञात लोगों की चिकित्सा सहायता में मदद कर सकता है।

Share this article
Shareable URL
Prev Post

नवरात्रि: इस दुर्गा मंदिर में 9 दिन होता है विशेष श्रृंगार, देवी प्रतिमा देख श्रद्धालु हो जाते हैं निहाल

Next Post

7,000 रुपये से कम दाम का हुआ Realme का तगड़ा फोन, अमेज़न सेल में मिल रही है गजब डील

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read next

रोज सिर्फ इतना नमक अपनी डाइट से निकाल लीजिए, फिर देखिए कमाल, 3 बीमारियों में दवा से ज्यादा असरदार

हाइलाइट्स विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक एक वयस्क व्यक्ति को रोजाना 5 ग्राम से कम नमक का सेवन करना चाहिए. नमक…

तलवे में गर्मी और ये 7 संकेत है लीवर के ठप होने की आहट, इग्नोर करेंगे तो शरीर की फैक्टरी पर आ जाएगी आफत

हाइलाइट्स पैरों के नाखूनों में फंगल इंफेक्शन भी लिवर के डैमेज होने के संकेत हो सकते हैं. पैरों के निचले हिस्से…

World Mental Health Day: जीवन जीने के ये 7 सिंपल सूत्र बहुत आएंगे काम, हमेशा रहेंगे खुश, नहीं होगी मानसिक परेशानी

अगर जीवन में खुश रहना है तो दूसरों के बारे में हमेशा अच्छी सोच रखें। जीवन में खुश रहने के लिए हेल्दी डाइट का…

107 वर्षीय दादी रामबाई का तेलंगाना में जलवा, चैंपियनशिप में जीते दो गोल्ड मेडल

प्रदीप साहूचरखी दादरी. जिले के कादमा निवासी 107 वर्षीय दादी रामबाई ने. उड़नपरी के नाम से प्रसिद्ध दादी रामबाई इस…